जो बाइडेन ने पलटा ट्रंप का फैसला, H-1B वीजाधारकों को दी बड़ी राहत

वॉशिंगटन: अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन (Joe Biden) ने कार्यभार संभालने के एक सप्ताह बाद ट्रंप युग के उस आदेश को वापस ले लिया, जिसके तहत H-1B कार्य वीजाधारकों के जीवनसाथी को काम करने की अनुमति देने वाले H4 वीजा पर रोक लगाई गई थी, जिनमें से ज्यादातर अत्यधिक कुशल भारतीय महिलाएं हैं. H-4 वीजा H-1B वीजाधारकों के पति/पत्नी या 21 साल से अधिक उम्र के बच्चों को जारी किया जाता है. उच्च कौशल वाले एच-1बी वीजाधारकों में बड़ी संख्या भारतीयों की है.
H-1B वीजा एक गैर-अप्रवासी वीजा है, जो अमेरिकी कंपनियों को कुछ व्यवसायों के लिए विदेशी श्रमिकों को नियुक्त करने की अनुमति देता है, जहां सैद्धांतिक या तकनीकी विशेषज्ञता की आवश्यकता होती है. प्रौद्योगिकी कंपनियां भारत और चीन जैसे देशों से प्रत्येक वर्ष दसियों हजार कर्मचारियों को नियुक्त करने के लिए इस वीजा पर निर्भर हैं. आमतौर पर H-4 वीजा उन लोगों को जारी किया जाता है, जिन्होंने पहले ही अमेरिका में रोजगार-आधारित वैध स्थायी दर्जा पाने की प्रक्रिया शुरू कर दी है.

हिन्दमान भारत वर्ष की प्रमुख समाचार माध्यम है। जो हिन्दी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में उपलब्ध है।
toggle